Tujh Bin Jindgi

Tujh Bin Jindgi

क्यों सताते हो मुझे यूँ दुरियाँ बढ़ाकर, क्या तुम्हे मालूम नहीं अधूरी हो जाती है तुझ बिन जिन्दगी ||
kyo state ho yun duriya bdhakar, kya tumhe malum nhi adhuri ho jati he tujh bin jindgi ||
Tujh Bin Jindgi
Tujh Bin Jindgi
क्यों घबराता है पगले दुःख होने से जीवन तो प्रारम्भ ही हुआ है रोने से ||
kyo ghabrata he pagle dukh hone se jeevan to prarmbh hi hua he rone se ||
मुझे तेरे ये कच्चे रिश्ते जरा भी पसंद नहीं आते या तो लोहे की तरह जोड़ दे या फिर धागे की तरह तोड़ दे ||
mujhe tere ye kcche rishtey jra bhi pasand nhi aate ya to lohe ki tarah jod de ya fir daage ki tarah tod de..

Leave a Comment