Ek Haan Ke Intzar me

Ek Haan Ke Intzar me

Bas ab ek haan ke intezaar me raat yunhi guzar jaayegi,
ab toh bas uljhan hai saath mere neend kahan aayegi,
Subah ki kiran na jaane konsa sandesh laayegi,
rimjhim is gungunayegi ya pyaas adhuri reh jaayegi…
बस अब एक हां के इंतजार में रात यूं ही गुजर जाएगी ,
अब तो बस उलझन है साथ मेरी नींद कहां आएगी ,
सुबह की किरण ना जाने कोई सा संदेश लाएगी,
रिमझिम इस गुनगुन आएगी या प्यास अधूरी रह जाएगी

Ek Haan Ke  Intzar me
Ek Haan Ke  Intzar me

Garmiye hasrat ke nakam se jalte hai
hum chiragon ki tarah shaam se jalte hai…
jab aata hai tera naam mere naam ke saath..
naa jano kyon log hamare naam se jalte hai…
गर्मीए हसरते नाकाम से जलते हैं
हम चिरागों की तरह शाम से जलते हैं
जब आता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ
ना जाने क्यों लोग हमारे नाम से जलते हैं।
Pani Se Pyaas Na Bujhi
Toh Maikhane Ki taraf Chal Nikla
Socha Shikayat Karun Teri Khudha Se
Par Khudha bhi Tera Ashiq Nikla…
पानी से प्यास ना बुझी तो मेकाने की तरफ चल निकला सोचा शिकायत करुं तेरी खुदा से पर खुदा भी तेरा आशिक निकला

Leave a Comment